ब्लैंक 3 मई को रिलीज हो रही है। फ़िल्म का ट्रेलर रिलीज हो चुुका है। टिवंकल खन्ना और अक्षय कुमार ने भी अपने ट्वविटर अकाउंट से फ़िल्म के बारे में लिखा है। फ़िल्म की कहानी आतंकवाद की समस्यायों पर आधिरत है। फ़िल्म के किरादारों के बारे और ट्रेलर देखने के बाद फ़िल्म की कहानी के बारे में ख़ास बातें ये हैं।

सनी देओल

ब्लैंक फ़िल्म में सनी देओल फिर से अपने पुराने अंदाज में नज़र आयेंगे। फ़िल्म के ट्रेलर में ‘सनी देओल’ एक इंटेलीजेंस ऑफिसर दिखाये गये हैं। इस तरह के किरदारों में सनी देओल  काफी सफल रहे हैं। इसीलिए इस फ़िल्म से सनी देओल और उनके प्रशंसकों को काफी उम्मीदें हैं।

blank

करण कपाडिया

करण कपाडिया ब्लैंक फ़िल्म से अपना डेब्यू कर रहे हैं। करण कपाडिया टंविंकल खन्ना के भाई और डिंपल कपाडिया की बहन सिम्पल कपाडिया के बेटे हैं। सिम्पल कपाडिया की हिन्दी फ़िल्मों में सक्रिय भूमिका रही है। उन्होंने ‘अजूबा’, ‘ड़र’, ‘रूदाली’, ‘बरसात’, ‘घातक’, सोचा ना था जैसी और बहुत सी फ़िल्मों में कॉस्टयूम डिज़ायनर के तौर पर काम किया है। सिम्पल कपाडिया ने 1976 से लेकर 1986 तक बतोर नायिका दर्जन भर हिन्दी फ़िल्मों में काम किया है।

blank

फ़िल्म ट्रेलर से कहानी

फ़िल्म ब्लैंक का ट्रेलर देखने के बाद यह कहानी समझ आती है। सन्नी देओल एक इंटेलीजेंस ऑफिसर हैं, उनके पास इन्फोर्मेंशन हैं कि शहर में कुछ होने वाला है। उनकी टीम एक आतंकवादी बने ‘ करण कपाडिया’ को ट्रेक कर रही है। करण एक एक्सीडेंट में अपनी याद्दाश्त खो देते हैं।

blank

यहीं से एक नई मुसीबत शुरू होती है। सनी देओल करण कपाडिया को गिरफतार तो कर लेते हैं लेकिन उनके सीने पर एक बम बंधा है जो उनकी धड़कनों से अटेच किया गया है। जिसका कनेकश्न उनकी धड़कनों से है। उपर से उसे कुछ याद भी नहीं है। यही फ़िल्म का इंटरेस्टिंग पॉईंट हैं।

Blank

करण कपाडिया के सीने पर लगा बम फट जायेगा या सन्नी देओल उसे भेजने वाले लोगों की साजिश को नाकाम कर देंगे? या करण को भेजने वालों के ख़िलाफ इस्तेमाल करके उन सबको मार देंगे? क्या होगा फ़िल्म में यह जानने के लिए फ़िल्म ब्लैंक देखनी होगी। फ़िल्म 3 मई को रिलीज हो रही है।