जबरिया जोड़ी का ट्रेलर रिलीज हो चुका है। फ़िल्म बिहार की पृष्ठभूमि पर आधारित है। दहेज बिहार मे ही नहीं पूरे देश में एक गम्भीर समस्या है। अख़बारों में आये दिन ख़बरे आती ही रहती हैं। दहेज ना देने पर बारात वापस लोट गयी। दहेज ना मिलने पर पती ने पत्नी को जलाया। दहेज प्रथा पर शख़्त क़ानून होने के बाद भी यह देश की सबसे बड़ी समस्या बनी हुई है। इस समस्या पर पहले भी बहुत सारी फ़िल्में बन चुकी हैं।

जबरिया जोड़ी दहेज प्रथा का नया रूप है। ज़माना बदला तो दहेज का रूप भी बदल गया। बिहार में दूल्हन की जगह दूल्हे अगवा कराये जाने लगे। अच्छे खासे नोकरी पैसा वाले लड़कों को जबरन उठाकर लड़कियों से उनका विवाह कराया जाने लगा। जबरन पकड़वा विवाह की समस्या बिहार में बहुत सुनने और देखने को मिली।

jabariya jodi

फ़िल्म जबरिया जोड़ी भी पकड़वा विवाह पर आधारित है। फ़िल्म का ट्रेलर देखने के बाद पहला ही डॉयलॉग सुनकर फ़िल्म की थीम का अंदाजा होता है। ” बिहार में तीन तरह की जोडियां बनती हैं, हिम्मत वालों की एक जोड़ी, किस्मत वालों की एक जोड़ी, दहेज वालों की एक जोड़ी”।

फ़िल्म में अभय सिंह (सिधार्थ मल्होत्रा) दबंग के किरदार में हैं। वह लोग जो शादी में दहेज की डिमांड करते हैं, लड़की वालों से दहेज मांगते हैं। वह उन लड़कों को जबरन उठाकर किसी और लड़की के साथ जबर्दस्ती शादी करा देता हैं। जबरिया जोड़ी बनाना ही उसका काम है। इसलिए फ़िल्म की थीम ही जबरिया जोड़ी है।

jabariya jodi

फ़िल्म में नया मोड़ तब आता है जब डोली यादव को अभय सिंह से प्यार हो जाता है। अभय सिंह जिसे प्यार मुहब्बत से ज़्यादा एम.एल.ए की कुर्शी जरूरत है। डोली यादव अभय सिंह से शादी करने का मन बना लेती है। और वह उसी अभय सिंह को उठवाने का प्लान बना लेती है जो जबर्दस्ती दूल्हों को उठाकर उनकी शादियां कराता है।

फ़िल्म की थीम दहेज है, जिसे एक मजेदार ड्रामा के रूप में दिखाने की कोशिश की गई है। सारी हिन्दी फ़िल्मों की तरह लव स्टोरी है। इसके अलावा लडाई-झगड़ा मारपीट है, एक मनोरंजक फ़िल्म में जो होना चाहिए फ़िल्म में वो सब है।

‘जबरिया जोड़ी’ और पकड़वा विवाह

फ़िल्म समाज का आईना होती हैं। हम जो समाज में देखते हैं, उसी से प्रभावित होकर कहानी लिखने की कोशिश करते हैं। फ़िल्म जबरिया जोड़ी के लेखक संजीव के. झा ने आस-पास हुई कुछ घटनाओं से प्रभावित होकर दहेज की समस्या को नये तरीके से कहने की कोशिश की है।

jabariya-jodi

क्या सच में होती हैं ऐसी घटनाएं?

पिछले साल जनवरी में एक मामला टी.वी और अखबारों में छाया रहा। एक इंजियर के घरवालों ने इल्ज़ाम लगाया था कि उनका बेटा अपने किसी दोस्त की शादी में गया था, वहां उसे जबरन अगवा कर किसी लड़की से उसकी शादी करा दी गई। शादी का वीडियों भी दिखाया गया। इस तरह के और भी बहुत से मामले सामने आये हैं।

इस पहले 2017 में एक फ़िल्म बारात कम्पनी रिलीज हुई थी। उस फ़िल्म में भी दूल्हा उठाने वाली घटना को दिखाया गया था। बारात कम्पनी तो बहुत ज़्यादा सफल नहीं हो पायी लेकिन जबरिया जोड़ी बॉक्स ऑफिस पर कमाल कर सकती है।