हिन्दी फ़िल्मों की कहानियों का भी एक दौर आता है। कहानी फ़िल्मी हों या किताबी एक ही पोईंट पर चलती हैं, वह पोईंट कुछ भी हो सकता है। हिन्दी सिनेमा में 1930 से लेकर 40 तक  की प्रेम कहानियों में प्यार करने वालों में एक गरीब होता था एक अमीर और इस वज़ह से शादी करने में मुश्किलें आती थीं। इसके बाद हिन्दी फ़िल्मों में तिकड़ी प्रेम की शुरूवात हुई, यानि दो दोस्त एक ही लड़की को प्यार करते थे और यह बात फ़िल्म के अंत में पता चलती है।एक शादी करता दूसरे का दिल टूटता है। हिन्दी सिनेमा में प्रेम का फिर एक दौर आया दो भाई एक ही लड़की से प्रेम करते हैं। शादी करना चाहते हैं।एक भाई को अंत में पता चलता है तो वह दूसरे भाई के लिए अपने प्रेम का त्याग कर देता है।

हम आपके हैं कौंन

इस फ़िल्म में सलमान ख़ान जिस लड़की से प्यार करते हैं, उसका बड़ा भाई अंजाने में उस से शादी करने वाला होता है और सलमान ख़ान खुद माधुरी को ऐसा करने के लिए कहता है।

monish bhal
source

दिल्लगी

इस फ़िल्म में बॉबी और सन्नी एक ही लड़की उर्मिला से प्यार करते हैं, बॉबी उर्मिला के लिए सन्नी को गोली भी मार देता है।

dillagi
source

साजन

संजय और सलमान एक ही लड़की माधुरी को प्यार करते हैं।संजय दत्त अपने भाई के लिए अपना प्यार कुर्बान कर देता है।

saajan
source

हेट स्टोरी 3

इस फ़िल्म में भी दो भाई एक ही लड़की से प्यार करते हैं, एक भाई दूसरे भाई को मार देता है, वह किस्मत से बच जाता है और अपने दोस्त के ज़रिये भाई से बदला लेता है।

-hate-story-3
source

साहबजादे

इस फ़िल्म में भी आदित्य और संयज दत्त दोनों भाई एक ही लड़की से प्रेम करते हैं अंत में लड़की आदित्य को मिलती है।

SAHEBZAADE
source

सॉरी भाई

इस फ़िल्म में एक भाई की मंगेतर को उसके छोटे भाई से प्यार हो जाता है और अंत में छोटे भाई को बड़े से सॉरी बोलना पड़ता है।

sorry bhai
source

चल मेरे भाई

इस फ़िल्म में भी साजन की तरह एक भाई सीधा सादा है, दूसरा भाई तेज तर्रार है। दोनों भाई एक ही लड़की से प्यार करने लगते हैं।

chal mere bhai
source

कर्ज़

इस फ़िल्म में भी दोनों भाई आपस में एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं। प्यार का इम्तहान तब होता है, जब दोनों एक ही लड़की से प्यार करने लगते हैं।

Karaz
source

हिन्दी फ़िल्मों में एक बार जो कहानी चल जाती है, उसे अदल बदल कर उसमें जोड़ तोड़ करके उसे इतनी बार अलग अलग तरीके से दिखाया जाता है कि उसका नयापन ही खत्म हो जाता है।हिन्दी सिनेमा का प्रेम हमेशा मर्द के ही पक्ष में दिखाया गया है, लड़की तो बस बेचारी रोती है, गाने गाती है और हीरो के आस पास रहती है हालांकि कुछ फ़िल्मों में दो बहन भी एक ही लड़के से प्यार करती दिखती हैं।