इंडियन मिथोलॉजी के मुताबिक दुनिया के सबसे पहले सुपर हीरो हनुमान जी हैं।

फ़िल्मों में लेकिन इंडिया से पहले हॉलीवुड में सुपरमैन आ चुका था। हॉलीवुड में सुपरमैन बहुत ही हिट रहा। सुपर मैन के बाद हॉलीवुड में सुपर हीरो की लाईन ही लग गयी। हॉलीवुड में सुपर हीरो की सफलता देखकर इंडियन सिनेमा में भी सुपर हीरो का जन्म हुआ।

इंडिया के सुपर हीरो लेकिन हॉलीवुड की तरह सफल नहीं हो पाये। इसकी कई वज़ह हो सकती है। एक तो यह कि इंडियन दर्शकों के ज़हन में मार पीट,गोली, उछल कूद तक तो हीरो की इमेज थी। वह अपने हीरो को किसी देवीय शक्ति की बजाय आम आदमी ही देखना चाहते थे, बिल्कुल उन्ही के जैसा रोजमर्रा की ज़िंदगी से जूझता और लड़ता हुआ। हीरो गुंडे-बदमाश को किसी शक्ति से मारे इस बात में दर्शकों को कम मजा आता था।

उन्हें मजा आता था जब उनके जैसा दिखने वाला आम हीरो उनके गली मुहल्ले के जैसे दिखने वाले गुंडों को अपने ही हाथों से पीटता था।जो सुपर हीरो दर्शकों को आम आदमी की तरह लगे, दर्शकों ने उन्हें पसंद भी किया। किस सुपर हीरो को दर्शकों ने कितना पसंद किया यह फ़िल्मों के बज़ट और कमाई से पता चलता है।

मि. इंडिया

अनिल कपूर को मि. इंडिया के रूप में दर्शकों ने इतना पसंद किया था कि बहुत दिनों तक लोगों ने उन्हें मि. इंडिया के नाम से ही बुलाया था।अब उनके बेटे भी भावेश जोशी में सुपर हीरो बनकर आ रहे हैं दर्शक उनको कितना पसंद करेंगे आने वाला वक्त ही बतायेगा।

Mr. india
source

रा-वन

शाहरूख़ खान भी बाजार और बदलते सिनेमा को देखकर रोमेंटिक हीरो रा-वन में सुपर हीरो बनकर दर्शकों के सामने आये। लेकिन दर्शकों ने बहुत ज़्यादा पसंद नहीं किया।

raone
source

क्रिश

कोई मिल गया  की सफलता के बाद राकेश रोशन ने उसके अगले भाग क्रिश में ऋतिक को सुपर हीरो बना दिया। इस सुपर हीरो को दर्शकों, विशेष रूप से बच्चों, ने बहुत पसंद किया।

krish
source

ए फलाईंग जट्ट

टाईगर श्राफ अपनी हर फ़िल्म में स्टंट तो करते ही हैं। हवा में उछलकर लात घूंसे चलाते हैं। वह इस फ़िल्म में कुछ ज़्यादा ही हवा में चले गये। दर्शकों के मन को भाये नहीं।

flying jatt
source

तूफान

सुपर स्टार अमिताभ बच्चन भी तुफान फ़िल्म में सुपर हीरो बनकार आये, दर्शकों ने लेकिन उन्हें भी पसंद नहीं किया।

toofan
source

 द्रोणा

अमिताभ तो सुपर हीरो बने ही उनके बेटे अभिषेक बच्चन भी द्रोणा के रूप में सुपर हीरो बनकर दर्शकों के सामने आये।दर्शकों ने लेकिन उनको भी पसंद नहीं किया।

drona
source

सुपर मैन

सुपरमैन की दुनिया भर में कामयाबी के बाद भारत में पुनीत को सुपरमेन बनाकर दर्शकों के समाने लाया गया। दर्शकों लेकिन मजा नहीं आया।

superman
source

ज़ोकोमोन

बड़े सुपर हीरो ज़्यादा सफल नहीं हुए तो एक छोटे से बच्चे को सुपर हीरो बनाकर दर्शकों के समाने लाया गया। दर्शकों ने लेकिन बड़ों की तरह ही छोटे सुपर हीरो को भी पसंद नहीं किया।

superman copy
source

बिना लॉजिक का सुपर हीरो हॉलीवुड में चल सकता है। यहां भारतीय दर्शकों की इस बात में तारीफ करनी होगी उन्हें जिन हीरों के सुपर बनने का लॉजिक समझ नहीं आया उन्होंने उसे रिजेक्ट कर दिया।भारत में सुपर हीरो बनाने के लिए सुपर लॉजिक की ज़रूरत पड़ती है। मि. इंडिया जिसका सबसे अच्छा उदहारण हैं।

Source.