नमस्ते लंदन की कामयाबी के बाद इस सिरीज का सिलसिला चल निकला है। नमस्ते इंगलैंड रिलीज हो रही है। निर्देशक विपुल शाह इस फ़िल्म में भी अक्षय कुमार को लेना चाहता थे। अक्षय के पास लेकिन डेट नहीं होने की वज़ह से फ़िल्म अर्जुन कपूर के हिस्से में आयी। फ़िल्म कैसी है, ये तो रिलीज होने के बाद ही पता चलेगा। फ़िल्म के गानों ने लेकिन धूम मचा रखी है। गानों में जावेद  साहब की कलम का ज़ादू, आतिफ असलम, राहत फतेह अली और मन्नन शाह की धुन सुनाई पड़ती है।

ज़िंदा हूं मैं, तेरे लिए

“ज़िंदा हूं मैं सिर्फ तेरे लिए” हल्क़ी हल्क़ी धुन पर गाने के बोल दिल में उतर जाते हैं। गाना सुनते हुए कोई पुराना सा बिछड़ा हुआ कुछ याद आने लगता है।

tere liye
source

ज़िद्दी है दिल

यह गाना बहुत ही धीरे से शुरू होता है। इसके लफ्ज़ एक आशिक़ के ज़ुनून, उसके दीवाने पन को, उसकी हठधर्मी को दिखते हैं। इस फ़िल्म में यही हाल फ़िल्म के हीरो का भी है। यह गाना लोगों की जबान पर चढ़ा हुआ है।

Ziddi hai dil
source

क्या कहूं जानेमन

शाशा तिरुपति की आवाज और जावेद साहेब की कलम और मन्नान के संगीत का एक बेहतरीन संगम है। ” क्या कहू जानेमन”

Kya kahun jane man
source

तु मेरी मैं तेरा

इस गाने के बोल सुनकर जावेद साहब की तारीफ करनी होगी। इसके बोल उन्होंने इतने आसान लफ्जों में रखे हैं, कि हर कोई बोल पाये। यह गाना गाया है राहत फतेह अली ख़ान ने, उनके पीछे फरीदी ने भी अपनी आवाज दी है।

Tu meri main tera
source

धूम धड़ाका धूम धड़ाका हो गया तो

इस गाने को सुनकर आपको भी यक़ीन नहीं होगा, यह गाना भी जावेद अख़तर साहब ने लिखा है। इस गाने को गाया है शाहिद माल्या और अंतरा मित्रा ने। संगीत मन्नान शाह ने दिया है।

dhoom dhdaka
source

भरे बाजार बेबी कल्ली ना जाना

मास्टर राकेश का लिखा गाना, विशाल ददलानी, पायल और बादशाह की आवाज में धूम मचाये हुए हैं।

Bhare bazaar
source

इस फ़िल्म में सात गाने हैं। गानों की खास बात है कि सभी अलग-अलग धुन पर हैं। कुछ रोमांटिक हैं, कुछ पार्टी के लिए हैं, कुछ इमोशनल हैं। आज ही अपनी टिकिट बुक करें।