super 30

‘सुपर 30’ ट्रेलर रिलीज, असली होरी को बहुत पापड़ बेचने पड़े

सुपर 30 फ़िल्म का ट्रेलर रिलीज हो चुका है। फ़िल्म 12 जुलाई को रिलीज हो रही है। सुपर 30 के असली हीरो आनंद कुमार का किरदार फ़िल्म में ऋतिक रोशन ने किया है। ऋतिक रोशन ने फ़िल्म का लिंक शेयर करते हुए अपने विचार भी साझा किये हैं ” सभी सुपरहीरो कैप नहीं पहनते। एक आइडिया ही नेशन को बनाता है। लोग होते हैं जो आइडिया को एम्पॉवर करते हैं। ऐसी ही एक स्टोरी को भारत के हार्टलेंड से प्रस्तुस करने जा रहे हैं” ऋतिक रोशन ने अपने ट्ववीट पर भी लिखा है- उठो, पढ़ो, लड़ो, बढ़ो और हक़दार बनो।

सुपर 30 फ़िल्म  आनंद कुमार के जीवन पर आधारित है। आनंद कुमार बिहार के रहने वाले हैं। इनके पिता ड़ाक विभाग में काम करते थे। वह कम तनख़्वाह और जरूरत के चलते उन्हे किसी अच्छे अंग्रेजी मीडियम स्कूल में दाखिला नहीं दिला पाये। आनंद कुमार की पढ़ाई सरकारी हिन्दी मीडियम स्कूल में हुई।

स्कूलों में बच्चे गणित से ही ज़्यादा घबराते हैं। आनंद कुमार ने लेकिन गणित को ही अपनी ताकत बनाया। उनका मन उसी में लगता था। उन्हें गणित से बेहद लगाव था। अपनी पढ़ाई के दौरान ही उन्होंने संख्या सिधांत पर कुछ पेपर जमा किये, जिन्हें मेथमेटिकल स्पेकट्रम और दे मेथमेटिकल गज़ट जैसी पत्रिकाओं ने प्रकाशित किया।

super 30

आनंद कुमार केमब्रिज जाना चाहते थे। उनके दाखिला की प्रक्रिया भी पूरी हो चुकी थी, लेकिन आर्थिक तंगियों के चलते जा नहीं पाये। यहीं से उनका संघर्ष शुरू हुआ। वह सुबह को गणित की किताबों में ध्यान लगाते थे शाम को अपनी मां के साथ पापड बेचने में हात बटाते थे । साल 1992 में उन्होंने गणित पढ़ाना शुरू किया। यहीं से स्कूल ऑफ रामानुज मैथमेटिक्स की स्थापना हुई।

साल 2002 में उन्होंने प्लान सुपर 30 शुरू किया। इसमें उन्होंने उन बच्चों को कोचिंग देना शुरू किया, जो पढ़ने मे होशियार थे लेकिन आर्थिक तंगी के चलते कोचिंग की फीस नहीं दे सकते थे । सुपर 30 का 2018 के आंकड़ों के साथ रिज़ल्ट ये है कि सुपर 30 में पढ़ाये उनके 480 में से 422 छात्र आई.आई.टी के लिए चयनित हो चुके हैं।

super30