Delhi

‘Mahabharata’: दुर्योधन और कर्ण जैसा कोई मित्र ना हुआ, ना होगा।

इतिहास महाभारत का दोषी दुर्योधन को मानता है। दुर्योंधन जो एक ईश्यालु व्याकित था जबकि कर्ण एक सहनशील व्यक्ति था। इसके बाद भी क्यों कर्ण और दुर्योधन की दोस्ती इति...