Panchayat

65%

‘Panchayat’ Review: गांव के लोग भोले होते हैं मूर्ख़ नहीं

भारतीय साहित्य में गांवों को बहुत लोगों ने करीब से देखा और लिखा है। ऐसे लेखकों में सबसे ऊपर मुंसी प्रेमचंद और श्री लाल शुक्ल का नाम आता है। प्रेमचंद की कहानियां...